अभिधर्म और सिद्धांत प्रणालियाँ

अभिधर्म यानी ज्ञान के विशिष्ट विषय से यह जानकारी मिलती है कि हम किस प्रकार जगत के विभिन्न तथ्यों को किन किन श्रेणियों में बांट कर समझ सकते हैं। इस ज्ञान की सहायता से हम जीवन की जटिलताओं के बीच से गुज़रते हुए अपने अनुभवों के अर्थ को समझ सकते हैं। और फिर हम विभिन्न बौद्ध पद्धतियों और परख की सहायता से सीखते और ध्यान साधना करते हुए यथार्थ के गूढ़तम स्वरूप को जान सकते हैं।