मार्गदर्शित ध्यान-साधनाओं का प्रयोग कैसे करें

इन मार्गदर्शित ध्यान-साधनाओं का अनुसरण करके हम लाभकारी अभ्यास निर्मित कर सकते हैं

लक्ष्य - यह जानें कि तिब्बती-बौद्ध परंपरा में ध्यान-साधना क्या है; उसे करना सीखें; और प्रशिक्षण में मार्गदर्शन ग्रहण करें

दर्शक - सभी स्तर, अवस्थाएँ

संरचना

  • व्याख्या (समस्या, कारण, उदाहरण, विधि)
  • ध्यान-साधना (संकेतशब्दों द्वारा निर्देशित)
  • सारांश

साधना कहाँ करें - जो भी स्थान शांत, स्वच्छ और व्यवस्थित हो

साधना कब करें - प्रातःकाल में, दिनचर्या में व्यस्त होने से पहले | यदि यह संभव न हो, तो दिन समाप्त होने पर, सोने से पहले |

किस प्रकार बैठें - चौकड़ी मारकर एक ऐसी गद्दी पर बैठें जो न बहुत ऊँची हो, न बहुत नीची, न बहुत गुदगुदी हो, और न बहुत ठोस | यदि यह संभव न हो, तो एक सीधी टेकदार कुर्सी पर बैठें | दोनों ही स्थितियों में, पीठ सीधी रखें और अपने हाथ अपनी गोदी में | उत्तम हो यदि आप अपनी आँखें खिंचाव-रहित एकाग्र भाव से, धरती की ओर देखते हुए आधी बंद रखें |

कितनी बार ध्यान-साधना करें - दिन में कम से कम एक बार, हो सके तो दो बार (सुबह अपने व्यवसाय में कार्यरत होने से पहले और रात को सोने से पहले), प्रत्येक मार्गदर्शित ध्यान-साधना का प्रतिदिन कम से कम एक सप्ताह तक अभ्यास करें, उस क्रम के अनुसार जैसा वेबसाइट में बतलाया गया है | आपको जब भी आवश्यकता लगे, आप किसी भी समय पहली की गई ध्यान-साधना दोहरा सकते हैं |

अतिरिक्त अनुदेशों के लिए

[देखें: ध्यान-साधना कैसे करें]


Top